श्रावण मास: जानिए सावन के सोमवार व्रत रहने की विधि ….सावन के महीने में इस तरह करें व्रत और पूजा विधि आपको बता दें, कि हिंदू धर्म का पवित्र महीना सावन की शुरूआत 17 जुलाई से हो चुकी हैं सावन का महीना भगवान भोलेनाथ की पूजा अर्चना और आराधना का महीना माना जाता हैं वही भगवान शिव को यह माह अति प्रिय होता हैं वही इस माह में भगवान भोलेनाथ के रुद्राभिषेक का विशेष महत्व होता हैं वही सावन का महीना 15 अगस्त तक रहेगा।

आपको बता दें, कि भगवान शिव की पूजा में कभी भी तुलसी के पत्ते नही चढ़ना चाहिए। वही शिवजी की पूजा में नारियल नहीं अर्पित करना चाहिए। नारियल का संबंध देवी मां लक्ष्मी से होता हैं और देवी लक्ष्मी भगवान विष्णु की पत्नी हैं। शिवलिंग की पूजा में कभी भी कुमकुल को शामिल नहीं करना चाहिए।

वही कुमकुम सुहाग की निशानती मानी जाती हैं। वही कुमकुम की तरह भगवान भोलेनाथ की पूजा में हल्दी चढ़ाना वर्जित माना जाता हैं वही हल्दी का संबंध सौंर्दय से होता हैं शिव बैराग को धारण करते हैं शिव की पूजा में चंदन का इस्तेमाल शुभ माना जाता हैं।

22 जुलाई को सावन का पहला सोमवा व्रत
23 जुलाई को मंगला गौरी व्रत
28 जुलाई कामिका एकादशी, रोहिणी व्रत
29 जुलाई को सावन का दूसरा सोमवार व्रत
30 जुलाई को सावन शिवरात्रि
01 अगस्त को हरियाली अमावस्या, सावन अमावस्या
03 अगस्त को हरियाली तीज
05 अगस्त को नाग पंचमी, सावन का तीसरा सोमवार व्रत
07 अगस्त को तुलसीदाज जयंती
11 अगस्त को श्रावण पुत्रदा एकादशी
12 अगस्त को सावन का चौथा सोमवार व्रत, ईद उल अजहा
15 अगस्त को श्रावण पूर्णिमा, रक्षाबंधन

Hindi Planet News पर ये खबर पढ़ने के लिए धन्यवाद, अगर आपको ये खबर अच्छी लगी हो तो इसे लाइक करके अपने सभी दोस्तों के साथ शेयर जरुर करें | ऐसी ही मजेदार खबरें पढ़ने के लिए हमें फॉलो जरुर करें |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here