जालंधर (एस खन्ना): साल 2008 में केएमवी कॉलेज की पूर्व प्रिंसिपल रीटा बावा समेत चार लोगों की हत्या में नामजद एक ओर भगोड़े आरोपी को कमिश्नरेट पुलिस ने पकड़ने में सफलता हासिल की हैं। गिरफ्तार हुए आरोपी की पहचान बिहार के जिला पूर्णिया के रहने वाले मनोज यादव पुत्र जगदीश यादव के रूप में हुई हैं। पुलिस ने 11 साल पर बाद इस भगोड़े को काबू किया। अब भी इस केस में नामजद तीन आरोपी साचिन यादव, राम कुमार उर्फ रामू और गणेश सवरनकार भगोड़े हैं, जिन्हें पकड़ने में पुलिस टीम लगी हुई हैं।

बता दें कि छह जनवरी, 2008 को केएमवी कॉलेज की प्रिंसिपल रीटा बावा, उनके दो सिक्योरिटी गार्ड और एक नौकर की कॉलेज कैंपस में ही हत्या कर दी गई थी। प्रिंसिपल समेत मारे गए चारों लोगों के शवों को सबसे पहले एक नौकरानी ने देखा और पुलिस को इसकी सूचना दी थी। हत्या की शिकार हुई कन्या महाविद्यालय (केएमवी) की प्रिंसिपल रीटा बावा तलाकशुदा थी और अपने आवास में अकेली रहा करती थी। पुलिस ने इस केस में पहले अब तक चार लोगों को गिरफ्तार किया था, जिनमें से तीन आरोपियों अबदूल रसूद, मुहम्मद रहिमन व रमनदीप को चौहरी उम्रकैद की सजा सुनाई गई थी। जबकि चौथे आरोपी भौतू यादव को 6 साल की कैद हुई थी। इसके अलावा चार आरोपी भगौड़े थे, जिनमें से पुलिस ने एक आरोपी मनोज यादव को पकड़ लिया हैं। वहीं तीन आरोपी साचिन यादव, राम कुमार उर्फ रामू और गणेश सवरनकार अब भी भगोड़े हैं। पुलिस इन तीनों आरोपियों को पकड़ने के लिए छानबीन कर रही हैं।

 

Hindi Planet News पर ये खबर पढ़ने के लिए धन्यवाद, अगर आपको ये खबर अच्छी लगी हो तो इसे लाइक करके अपने सभी दोस्तों के साथ शेयर जरुर करें | ऐसी ही मजेदार खबरें पढ़ने के लिए हमें फॉलो जरुर करें |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here