आंध्रप्रदेश में स्थित  तिरुपति बालाजी का मंदिर चढ़ावा चढ़ाने को लेकर  हर बार सुर्खियों में रहता है। एक बार फिर चढ़ावे को लेकर यह मंदिर सुर्खियों में आ गया है। दरअसल, एक भक्त ने  भगवान वेंकटेश्वर को सोने के दो नए अभया हस्तम और कटि हस्तम (हाथ में पहनने के जेवर) चढ़ाए,  इनकी कीमत  लगभग 2.25 करोड़ रुपए बताई जा रही है। अभया हस्तम और कटि हस्तम का  वजन 6-6 किलो है।  अभया हस्तम और कटि हस्तम एक हाथ में पहनाए जाने वाले सोने के जेवर होते हैं। तिरुमाला तिरुपति देवदर्शनम(टीटीडी) ने बताया कि सुबह की पूजा के वक्त इन हाथों को भगवान को अर्पित किया गया।

तमिलनाडु के थेनी जिले के कारोबारी थंगा दुराई ने यह जेवर भगवान को अर्पित किए हैं| वे अपने परिवार के साथ आए  थे और  चढ़ावे के तौर पर ‘कटि हस्तम और ‘अभया हस्तम’ (कलाई पर पहनने वाला आभूषण) चढ़ाया। साथ हई बात में दुराई ने बताया कि वे  भगवान वेंकटेश्वर को बचपन से मानते हैं।

कहा जा रहा है कि थंगा दुराई की मन्नत पूरी होने पर उन्होंने ये फैसला लिया है। बता दें कि तिरुपति बालाजी मंदिर की काफी मान्यता है और हर साल बड़ी संख्या में लोग यहां दर्शन के लिए आते हैं  और मन्नत मांगतेहैं | मन्नत पूरी होने पर अपनी श्रद्धा अनुसार चढ़ावा भी चढ़ाते हैं।

मौत के करीब पहुंचकर लौटे थे दुराई

पत्रकार से बातचीत के दौरान दुराई  ने बताया कि वे कुछ साल पहले  बीमार पड़ गए थे और मौत के करीब पहुंच गए  थे । बचने की थोड़ी ही उम्मीद बाकी रह गई थी, लेकिन जब भगवान वेंकटेश्वर से प्रार्थना की और कई सारे चढ़ावा चढ़ाने की मन्नत मांगी तो  जीवनदान मिल गया। तभी से उन्होंने यह दान करने की सोचा था।  फिलहाल उनके दान की चर्चा हर ओर हो रही है। न केवल आंध्र प्रदेश, बल्कि देश भर में उनके दान के बारे में जानकर लोग चौंक जा रहे हैं । आन्ध्रप्रदेश के तिरुमाला में स्थित तिरुपति बालाजी मंदिर के खजाने में ही लगभग सात टन सोना और 30 टन चांदी जमा है। इस स्वर्ण-रजत भंडार में श्रद्धालु दिन-प्रतिदिन वृद्धि ही करते जा रहे हैं।

 

Hindi Planet News पर ये खबर पढ़ने के लिए धन्यवाद, अगर आपको ये खबर अच्छी लगी हो तो इसे लाइक करके अपने सभी दोस्तों के साथ शेयर जरुर करें | ऐसी ही मजेदार खबरें पढ़ने के लिए हमें फॉलो जरुर करें |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here