जानिए क्या हुआ ऐसा कि इंदौर के बीजेपी विधायक आकाश विजयवर्गीय को मांगनी पड़ी माफ़ी इस आम लड़के से ….अंततः इंदौर से बीजेपी विधायक आकाश विजयवर्गीय (akash vijayvarigya) ने नगर निगम अफसर को बैट से पीटने के मामले में माफ़ी मांग ही ली| उन्होंने पार्टी को भेजे अपने पत्र में माफ़ीनामा लिखते हुए कहा कि फिर कभी ऐसी कृत्य नहीं होगा| इंदौर के चर्चित बल्लाकांड के बाद बीजेपी विधायक आकाश विजयवर्गीय से पार्टी नाराज चल रही थी और उन्हें नोटिस भेजा गया था | बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह (rakesh singh) को भेजे पत्र में आकाश ने लिखा है-भविष्य में इस तरह का कोई कृत्य नहीं होगा| राकेश सिंह ने उनका माफ़ीनामा केंद्रीय संगठन को भेज दिया है|

इंदौर-3 से बीजेपी विधायक आकाश विजयवर्गीय ने 26 जून को गंजी कंपाउंड इलाके में एक जर्जर मकान तोड़ने गए नगर निगम के अफसर को सरेआम बैट से पीटा था और पुलिस के साथ भी उनकी झड़प हुई थी| बाद में विवाद बढ़ा और मकान पर कार्यवाई रोकी गई| इसके बाद मामला लगातार सुर्खियों में रहा और आकाश को जेल जाना पड़ा | पीएम नरेन्द्र मोदी ने आकाश विजयवर्गीय की इस अनुशासनहीनता पर गहरी नाराज़गी जताई थी| उन्होंने साफ कहा था कि बेटा किसी का भी हो अनुशासनहीनता बर्दाश्त नहीं की जाएगी| उसके बाद आकाश विजयवर्गीय को पार्टी ने कारण बताओ नोटिस जारी किया था|

वहीँ आकाश की गिरफ़्तारी के बाद उनके समर्थकों ने शहर में उनके समर्थन में पोस्टर लगा दिए थे| जिनमे आकाश को हीरो और मसीहा तक बताया गया था | उनकी रिहाई पर भी मिठाई बांटी थी|बता दे कि आकाश बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के बेटे है और इंदौर क्षेत्र क्रमांक 3 से पहली बार विधायक बने है| मुद्दे पर कैलाश विजयवर्गीय ने कहा था कि आकाश अभी कच्चा है| इस बारे में बात करते हुए कैलाश एक मिडिया कर्मी से उसकी औकात पूछ बैठे थे | जिसे लेकर भी खूब बवाल हुआ था | इससे पहले आकाश ने कहा था कि पहले निवेदन,  फिर आवेदन और फिर दे दना दन ही हमारे काम करने का अंदाज है| लेकिन अब माफीनामे के साथ आकाश बैकफुट पर है|

 

Hindi Planet News पर ये खबर पढ़ने के लिए धन्यवाद, अगर आपको ये खबर अच्छी लगी हो तो इसे लाइक करके अपने सभी दोस्तों के साथ शेयर जरुर करें | ऐसी ही मजेदार खबरें पढ़ने के लिए हमें फॉलो जरुर करें |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here