कर्नाटक( Karnataka) में चल रहे सियासी संकट के बीच आज फैसला होगा की मौजूदा सरकार रहेगी या नहीं| आज होने वाले विश्वास मत से कर्नाटक के नाटक का अंत होने की भी उम्मीद है| कर्नाटक में जब से कांग्रेस और जनता दल सेक्यूलर (जेडीएस) के गठबंधन की सरकार बनी है, तब से ही इस सरकार पर खतरे के बादल मंडरा रहे हैं, कांग्रेस-जेडीएस ( congress jds) विधायकों के इस्तीफे के बाद से कर्नाटक सीएम एचडी कुमारस्वामी (kumarswami) की कुर्सी पर खतरा और ज्यादा बढ़ गया| मामला अब विश्वास मत पर टिका है और राजनीतिज्ञों की माने तो कर्नाटक सरकार गिर सकती है|

गणित ऐसा है –
224 सदस्यीय वाली कर्नाटक विधानसभा में विधायकों के इस्तीफे के ड्रामे से पहले बीजेपी के 105 सदस्य थे|
कांग्रेस 75+1 (स्पीकर) और जेडीएस के 37 सदस्य थे|
विधायकों के इस्तीफे देने के बाद समीकरण मौजूदा सरकार के लिए बिगड़ गए हैं|
कांग्रेस के अब 65+1 (स्पीकर) और जेडीएस के 34 विधायक ही बच गए हैं|
कर्नाटक में निर्दलीय 2, बीएसपी का एक और नॉमिनेटेड एक सदस्य मौजूद है|
इसके अलावा गुरुवार को 15 विधायकों के विधानसभा नहीं पहुंचने पर पूरा समीकरण ही बदल जाएगा|
कर्नाटक की 224 सदस्यीय विधानसभा में तब कुल 209 सदस्य रह जाएंगे|
स्थिति का फायदा उठाते हुए बीजेपी निर्दलीय विधायकों की मदद से सरकार बनाने की कोशिश करेगी|

साथ ही –
विधायक बीसी पाटिल के साथ कांग्रेस-जेडीएस के 11 अन्य विधायक भी थे, जिन्होंने इस्तीफा दिया है. पाटिल ने कहा, हम सभी साथ हैं और हमने जो भी निर्णय किया है| किसी भी कीमत पर पीछे हटने का सवाल ही नहीं उठता|कांग्रेस के बागी विधायक बीसी पाटिल ने एक विडियो में कहा, हम माननीय सुप्रीम कोर्ट के निर्णय से खुश हैं, हम उसका सम्मान करते हैं| बता दे कि सुप्रीम कोर्ट ने ये पहले ही साफ कर दिया है कि बागी विधायकों की सदस्यता कब रद्द की जानी है इसका फैसला खुद विधानसभा अध्यक्ष करेंगे|

 

Hindi Planet News पर ये खबर पढ़ने के लिए धन्यवाद, अगर आपको ये खबर अच्छी लगी हो तो इसे लाइक करके अपने सभी दोस्तों के साथ शेयर जरुर करें | ऐसी ही मजेदार खबरें पढ़ने के लिए हमें फॉलो जरुर करें |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here