अमेठी में राहुल गाँधी ने कहा- अमेठी की जनता से एक बार कांग्रेस के कार्यकर्ताओं को बात करने की जरुरत…अमेठी से हार जाने के बाद के Rahul Gandhi बुधवार को पहली बार अमेठी पहुंचे। कार्यकर्ताओं की बैठक को संबोधित करते हुए राहुल गाँधी ने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए अपने कार्यकर्ताओं को अमेठी के लोगों के साथ जुड़े रहने का निर्देश भी दिया।

राहुल गाँधी ने कहा- ‘नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री हैं, योगी जी मुख्यमंत्री हैं और संसद सदस्य (स्मृति ईरानी) भाजपा से हैं। हमें यहां अभी विपक्ष का काम करना है,विपक्ष का काम करना सबसे आसान होता है और उसमें सबसे ज्यादा मजा आता है।अब आपको (कार्यकर्ताओं) अमेठी में विपक्ष का काम करना है।जनता की जरुरते हैं, जनता की मदद करनी है। अर्थव्यवस्था की क्या हालत है, रोजगार की क्या हालत है, भ्रष्टा’चार कौन कर रहा है और कहां हो रहा है ये आप सब जानते हैं। मुद्दों की कोई कमी नहीं है। मगर अमेठी की जनता से कांग्रेस के कार्यकर्ताओं को बात करने की जरुरत है।’

बढ़ते प्रदूषण पर लगेगी रोक, उत्तराखंड आने वाले पर्यटकों पर लगाया जाएगा ‘ग्रीन टैक्स’

बता दें कि लोकसभा चुनाव में अमेठी सीट से बुरी तरह पराजित होने वाले कांग्रेस नेता राहुल गांधी बुधवार को अमेठी पहुंचे हैं। हारने के बाद राहुल का यह पहला अमेठी का दौरा है। यहां पर वह अपनी हार के कारणों का पता लगाने के लिए गए हैं ।इसके अलावा वह अमेठी की जनता और कार्यकर्ताओं से भी मिल रहे हैं।

मालूम हो 2014 में अमेठी से चुनाव जीता था। इनके पहले भी अमेठी कांग्रेस का ही गढ़ रही है। लेकिन इस बार अमेठी की जनता ने राहुल को अपना नेता नहीं चुना। उसने स्मृति ईरानी को जीत दिलाकर भाजपा का झंडा लहराया। इसकी क्या वजहें रही हैं? क्या गलती हो गई कि जनता ने उनका किनारा कर दिया? इन्हीं सब कारणों का पता लगाने राहुल अमेठी पहुंचे हैं।

सक्रिय राजनीति में उतरने के बाद राहुल पहली बार इस हालात में अमेठी पहुंचे हैं कि वह न तो अमेठी के सांसद हैं न ही पार्टी के अध्यक्ष। अमेठी शुरू से ही कांग्रेस का गढ़ रहा है लेकिन ऐसा नहीं है कि कभी किसी कांग्रेस के नेता ने शिकस्त नहीं खाई। 1977 में जब पहली बार संजय गांधी अमेठी से चुनाव लड़े तो वह चुनाव हार गए। फिर तीन साल बाद वह वापस लौट कर आए। दोबारा उन्होंने पूरी तैयारी के साथ जोरदार वापसी की थी। लेकिन जब वह हारे थे तब भी कांग्रेस के कार्यकर्ता जनता के बीच बराबर जाते थे उनकी समस्याएं सुनते थे।

Hindi Planet News पर ये खबर पढ़ने के लिए धन्यवाद, अगर आपको ये खबर अच्छी लगी हो तो इसे लाइक करके अपने सभी दोस्तों के साथ शेयर जरुर करें | ऐसी ही मजेदार खबरें पढ़ने के लिए हमें फॉलो जरुर करें |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here